अभिषेक बच्चन ने पिता अमिताभ के संघर्ष के दिनों को किया याद, कहा- 'उन्हें हर बार रिजेक्शन मिला'

हाल ही में, एक्टर अभिषेक बच्चन ने अपने पिता व अभिनेता अमिताभ बच्चन के बॉलीवुड में संघर्ष के बारे में बात की है। आइए आपको इसके बारे में बताते हैं।

img

By Kanika Singh Last Updated:

अभिषेक बच्चन ने पिता अमिताभ के संघर्ष के दिनों को किया याद, कहा- 'उन्हें हर बार रिजेक्शन मिला'

एक्टर अभिषेक बच्चन (Abhishek Bachchan) और उनके पिता व अभिनेता अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) आपस में एक प्यारा रिश्ता शेयर करते हैं। अमिताभ और अभिषेक अक्सर सोशल मीडिया पर एक-दूसरे के साथ मस्ती करते नजर आते हैं। दोनों की जोड़ी बॉलीवुड इंडस्ट्री में बेस्ट बाप-बेटे की जोड़ी मानी जाती है। भले ही अभिषेक ने अपने पिता की तरह सफलता हासिल न की हो। लेकिन उन्होंने जो भी फिल्में की हैं, वो यादगार रही हैं।

(ये भी पढ़ें: जब ऐश्वर्या राय ने कहा था- 'लोगों को लगता है मेरे पास आराध्या की परवरिश करने के लिए कई लोग होंगे')

अभिषेक बच्चन ने साल 2000 में फिल्म 'रिफ्यूजी' से बॉलीवुड में एंट्री की थी। हालांकि, वो फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाई थी। लेकिन लोगों ने अभिषेक को काफी प्यार दिया था। एक्टर अक्सर अपने सोशल मीडिया पर अपने व्यूज शेयर करते रहते हैं। इसके साथ ही, वो अपनी प्यारी-सी बेटी आराध्या और अपनी पत्नी व एक्ट्रेस ऐश्वर्या के साथ भी तस्वीरें साझा करते हैं।

(ये भी पढ़ें: जब ऐश्वर्या राय ने पति अभिषेक संग अपनी खुशहाल शादी का बताया था सीक्रेट, कहा था- 'हम दोनों बच्चे हैं')

हाल ही में, अभिनेता अभिषेक बच्चन ने 'पॉडकास्ट द रणवीर शो' पर अपने पिता अमिताभ बच्चन के हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में अपनी जगह बनाने के लिए किए गए संघर्ष के बारे में बात की। अभिषेक ने कहा, "आप किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में बात कर रहे हैं, जो उस विशेषाधिकार वाली जगह से आते हैं, जिसके बारे में मैं बहुत कुछ जानता हूं। मैं उनकी बहुत सराहना करता हूं। मैं उस वंश का अनादर न करने के लिए हर दिन अपना काम करता हूं। वह वंश मुझे एक ऐसे व्यक्ति ने दिया था, जिन्होंने कोलकाता में अच्छी तनख्वाह वाली नौकरी छोड़ दी थी और मुंबई आ गए थे। रात को मरीन ड्राइव की बेंच पर सोए थे। एक फिल्म प्रतियोगिता में भाग लिया और हार गए थे। फिर 'ऑल इंडिया रेडियो' गए, तो वहां भी रिजेक्ट कर दिए गए। उन्होंने बहुत संघर्ष किया और अपना रास्ता खुद बनाया। उन्होंने इंडस्ट्री में अपनी बकाया राशि का भुगतान कर दिया है और लगभग 80 वर्ष की आयु में भी वो वही कर रहे हैं। वो एक दिन में 16-18 घंटे काम करते हैं। ये आसान नहीं है। आपको विनम्र रहना होगा। यह आपका काम है, जो मायने रखता है।"

एक निजी कहानी साझा करते हुए अभिषेक ने कहा, "साल 1982 में फिल्म 'कुली' के सेट पर जब मेरे पिता के साथ एक घातक दुर्घटना हुई थी। उसके बाद से हर रविवार को घर के बाहर उनसे मिलने के लिए लोगों की भीड़ इकट्ठा होती है। वह हर रविवार शाम 6 बजे उन लोगों से मिलने जाते हैं। कई बार ऐसा भी हुआ, जब मैं अभिनेता बन गया, तो वो मुझे भी वहां ले गए और मैं इसे अपना 'सिम्बा मोमेंट' कहता हूं (फिल्म 'द लायन किंग' का जिक्र करते हुए)। मैं वहां जाता हूं। लेकिन किसी को मुझसे कोई लेना-देना नहीं होता। वो लोग सिर्फ मिस्टर बच्चन (अमिताभ बच्चन) के लिए आते हैं।"

अभिषेक ने यह भी खुलासा किया कि, एक दिन उन्होंने अपने पिता से पूछा कि, 'आपको कैसा लगता है, जब इतने सालों से आपके लिए भीड़ इकट्ठा होती है?' अमिताभ ने जवाब दिया, "मेरे दिमाग में एक ही विचार चलता है - 'क्या आपको लगता है कि, वे अगले रविवार को फिर आएंगे?' अभिषेक ने कहा, "यह आपको सिखाता है कि, आप आत्मसंतुष्ट नहीं हो सकते। आप इसे हल्के में नहीं ले सकते। उनसे बड़ा स्टार और बेहतर अभिनेता दुनिया में कोई नहीं है। उनका रवैया ऐसा है, इसलिए मुझे कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी, क्योंकि उन लोगों को वापस लाना है।"

फिलहाल, हमें अमिताभ और अभिषेक बच्चन के बीच का प्यारा-सा रिश्ता बहुत पसंद आता है। तो, आपको इस पिता-पुत्र की जोड़ी कैसी लगती है? हमें कमेंट में अवश्य बताएं।

BollywoodShaadis.com © 2022, Red Hot Web Gems (I) Pvt Ltd, All Rights Reserved.