राहुल द्रविड़ की लव स्टोरीः जानें डॉक्टर विजेता पेंढारकर पर कैसे आया था क्रिकेटर का दिल

राहुल द्रविड़ को किसी पहचान की जरूरत नहीं है, उन्होंने न सिर्फ देश में बल्कि विदेश में भी अपनी एक अलग पहचान बनाई है। ये बेहद कम लोग जानते हैं कि उनकी लव स्टोरी भी काफी इंट्रेस्टिंग है।

img

By Deepali Srivastava Last Updated:

राहुल द्रविड़ की लव स्टोरीः जानें डॉक्टर विजेता पेंढारकर पर कैसे आया था क्रिकेटर का दिल

हमें लगता है कि सिर्फ बॉलीवुड सितारों की लव स्टोरी ही खास होती है, लेकिन क्रिकेटर्स की लव स्टोरी भी कम दिलचस्प नहीं होती है। आज हम जिस क्रिकेटर की बात करने जा रहे हैं, वो महान बल्लेबाजों में शुमार हैं और उन्हें 'द वॉल' के नाम से भी जाना जाता है। जी हां, हम क्रिकेटर राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) की बात कर रहे हैं। राहुल द्रविड़ को किसी पहचान की जरूरत नहीं है, उन्होंने न सिर्फ देश में बल्कि विदेश में भी अपनी एक अलग पहचान बनाई है। लेकिन ये बेहद कम लोग जानते हैं कि राहुल की लव स्टोरी भी काफी इंट्रेस्टिंग है, जिसे यहां हम आपको बताने जा रहे हैं।  

राहुल द्रविड़ का करियर

हम आपको राहुल की लव लाइफ के बारे में बताएं, उससे पहले जान लीजिये कि, अपनी शानदार बैटिंग से भारतीय टीम को जीत दिलाने वाले 'मिस्टर भरोसेमंद' राहुल द्रविड़ का जन्म 11 जनवरी 1973 को इंदौर में हुआ था। राहुल की हमेशा से क्रिकेट में रुचि थी और उन्होंने खेल को ही चुना। साल 1996 में उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स में अपना टेस्ट डेब्यू किया था। अपने 16 साल लंबे करियर में राहुल द्रविड़ ने 164 टेस्‍ट में 36 शतक और 63 अर्धशतकों की मदद से 13,288 रन बनाए। 344 वनडे में 12 शतक और 83 अर्धशतकों की मदद से उन्‍होंने 10,889 रन बनाए। साल 2012 में आस्ट्रेलिया दौरे पर उन्होंने अपना आखिरी टेस्ट खेला था। क्रिकेटर राहुल द्रविड़ ने डॉक्टर विजेता पेंढारकर से 4 मई साल 2003 में शादी रचाई थी। विजेता ने साल 2005 में पहले बेटे समित को जन्म दिया और साल 2009 में दूसरे बेटे अन्वय का जन्म हुआ। अक्सर क्रिकेटर्स की मुलाकात एक्ट्रेसेस से होती है, लेकिन राहुल की मुलाकात डॉक्टर से कैसे हुई ये हम आपको बताने जा रहे हैं। (ये भी पढ़ें: बेहद खास है हार्दिक पांड्या और नताशा स्टेनकोविच की लव स्टोरी, इस तरह हुई थी पहली मुलाकात)

राहुल द्रविड़ और विजेता की ऐसे हुई थी मुलाकात

विजेता पेंढारकर पेशे से मेडिकल सर्जन हैं और उनके पिता इंडियन एयरफोर्स में विंग कमांडर थे। पापा की जॉब की वजह से उनका बचपन कई शहरों में बीता। इसी दौरान साल 1968 से लेकर 1971 के बीच उनके पिता की पोस्टिंग बैंगलोर में हुई। उसी वक्त उनका परिवार राहुल द्रविड़ के परिवार के संपर्क में आया। ऐसे विजेता और राहुल की मुलाकात हुई और दोनों में अच्छी दोस्ती हो गई। पिता के रिटायरमेंट के बाद पूरा परिवार नागपुर शिफ्ट हो गया और यहीं से विजेता ने अपनी मेडिकल की पढ़ाई की। 

इस तरह से किया था प्रपोज

विजेता के नागपुर आने के बाद राहुल उनसे अक्सर मिलने आया करते थे और दोनों एक-दूसरे से प्यार करने लगे। ऐसे ही एक दिन राहुल ने विजेता से शादी के लिए पूछ लिया और विजेता मना नहीं कर पाईं। दोनों ही अलग-अलग फील्ड से थे, लेकिन फिर भी राहुल-विजेता ने जिंदगी संग बिताने का फैसला किया। दोनों के परिवार वाले भी इस रिश्ते से खुश थे। (इसे भी पढ़ें: कमल हसन की एक्स-वाइफ सारिका से होने वाली थी कपिल देव की शादी, लेकिन इसलिए नहीं जुड़ा रिश्ता)

विजेता को नहीं पसंद थी लाइमलाइट

विजेता पेंढारकर बेहद साधारण और सादगी के साथ रहना पसंद करती हैं, उन्हें लाइमलाइट बिल्कुल पसंद नहीं थी और ना ही उन्हें खेल में रुचि थी। तो वहीं, राहुल द्रविड़ आए दिन सुर्खियों में रहते थे। कई बार मीडिया विजेता से राहुल के खेल और उनके रिश्ते के बारे में भी सवाल कर देती थी। जिससे विजेता और उनके परिवार को काफी परेशानी होती थी, लेकिन फिर भी विजेता ने राहुल की लाइमलाइट को अपनाकर उनसे शादी करने का अपना फैसला नहीं बदला।

साल 2002 में इस वजह से टल गई थी शादी

दोनों के परिवार वालों ने राहुल औऱ विजेता की शादी साल 2002 में तय की थी, लेकिन राहुल द्रविड़ को साल 2003 में वर्ल्ड कप खेलने जाना था। जिसके लिए उन्हें तैयारियां करनी थी, ऐसे में दोनों परिवार ने वर्ल्ड कप खत्म होने तक का इंतजार किया। इसके बाद साल 2003 में बैंगलोर में पारंपरिक महाराष्ट्रीयन रीति-रिवाज से दोनों ने शादी रचाई। इस शादी में कई क्रिकेटर्स ने शिरकत की थी और खास बात ये थी कि शादी में मीडिया को आने की इजाजत नहीं थी।

शादी के बाद विजेता ने छोड़ दी थी डॉक्टरी

राहुल द्रविड़ ने विजेता को कभी भी कुछ भी करने से नहीं रोका। उन्होंने अपनी पत्नी को अपने सपने पूरा करने की पूरी आजादी दी थी, लेकिन विजेता ने अपने सपनों की जगह राहुल के करियर को महत्व दिया। उन्होंने डॉक्टरी लाइन छोड़कर हाउस वाइफ बनने का फैसला किया, ताकि राहुल अपना पूरा फोकस क्रिकेट पर करें और बच्चों की टेंशन न लें।

राहुल द्रविड़ अपने परिवार के साथ बेहद सादगी के साथ अपनी जिंदगी बिताते हैं। उन्हें पत्नी विजेता और बच्चों समित व अन्वय के साथ कई बार साधारण सी जगहों पर स्पॉट किया जाता है। तो वहीं, विजेता-राहुल के बीच प्यार आज भी बरकरार है और दोनों एक-दूसरे के सपोर्ट में हमेशा खड़े रहते हैं। (ये भी पढ़ें: बॉलीवुड के वो सितारे जो अपने प्राइवेट प्लेन से भरते हैं उड़ान, जानें इनके बारे में)

फिलहाल, राहुल-विजेता की लव स्टोरी लोगों को काफी प्रेरित करती है और लोग कपल को काफी पसंद करते हैं। हम आशा करते हैं कि दोनों के बीच हमेशा प्यार बना रहे और उनके जीवन में खुशियां बनी रहें। तो आपको हमारी ये स्टोरी कैसी लगी? हमें कमेंट करके जरूर बताएं, साथ ही हमारे लिए कोई सुझाव हो तो अवश्य दें।

(फोटो क्रेडिट: इंस्टाग्राम)
BollywoodShaadis.com © 2021, Red Hot Web Gems (I) Pvt Ltd, All Rights Reserved.