दीया मिर्जा ने ‘कन्यादान’ और ‘विदाई’ को कहा ‘ना’, इसलिए महिला पुजारी से पढ़वाए अपनी शादी के मंत्र

बॉलीवुड अभिनेत्री दीया मिर्जा ने वैभव रेखी के साथ अलग तरह से शादी रचाई। अपने हालिया पोस्ट के जरिए एक्ट्रेस ने अपनी शादी की सभी विभिन्नताओं के बारे में विस्तार से चर्चा की है। आइए जानते हैं...

img

By Rinki Tiwari Last Updated:

दीया मिर्जा ने ‘कन्यादान’ और ‘विदाई’ को कहा ‘ना’, इसलिए महिला पुजारी से पढ़वाए अपनी शादी के मंत्र

फिल्म ‘रहना है तेरे दिल में’ से अपनी पहचान बनाने वाली दीया मिर्जा (Dia Mirza) ने लाखों चाहने वालों का दिल तोड़कर हाल ही में अपने बॉयफ्रेंड और बिजनेसमैन वैभव रेखी (Vaibhav Rekhi) के साथ शादी के बंधन में बंध चुकी हैं। उनकी शादी की तस्वीरें सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही हैं। दीया ने अपनी शादी अपने घर के गार्डन में की है और उनकी शादी के मंत्र एक महिला पंडित ने पढ़े। इसके पीछे की वजह हाल ही में दीया ने अपने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए फैंस के साथ साझा की है। आइए आपको बताते हैं इसके बारे में।

उससे पहले ये जान लीजिए कि, नौजवानों के दिलों पर राज करने वाली दीया मिर्जा की वैभव के साथ दूसरी शादी है। इससे पहले उन्होंने अपने लॉन्ग टाइम बॉयफ्रेंड और फिल्म निर्माता साहिल सांघा के साथ शादी की थी। शादी से पहले वह साहिल के साथ 6 सालों तक रिलेशनशिप में रही थीं। इसके बाद साल 2015 में उन्होंने धूमधाम से साहिल संग शादी रचाई थी, लेकिन ये शादी ज्यादा समय तक चल नहीं सकी और दोनों साल 2019 में आपसी रजामंदी से तलाक लेकर हमेशा के लिए अलग हो गए। दीया अक्सर अपनी पर्सनल लाइफ को प्राइवेट रखती हैं, लेकिन साहिल संग तलाक की जानकारी उन्होंने खुद सोशल मीडिया पर फैंस के साथ साझा की थी। वह चाहती थीं कि उनके तलाक को लेकर कोई फालतू बातें न बनाई जाएं। बहरहाल, साहिल से अलग होने के बाद दीया मिर्जा को वैभव के रूप में उनका दूसरा प्यार मिला। वैभव भी तलाकशुदा हैं, जिनकी एक बेटी भी है। कई रिपोर्ट्स के मुताबिक, दीया और वैभव के बीच नजदीकियां लॉकडाउन के दौरान बढ़ी थीं। एक-दूसरे को अच्छे से जानने के बाद दोनों ने शादी करने का फैसला किया। (ये भी पढ़ें- शादी से पहले एक्ट्रेस निधि दत्ता की ब्राइडल शावर की रखी गई पार्टी, शामिल हुईं आलिया-सारा की मदर्स)

अब बात करते हैं दीया के लेटेस्ट पोस्ट के बारे में। दरअसल, दीया ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अपनी शादी की एक तस्वीर साझा की है, जिसमें वह अपने लविंग हसबैंड के साथ मंडप में बैठी नजर आ रही हैं। इस तस्वीर में दीया और उनके हसबैंड वैभव बेहद खुश दिख रहे हैं। वैसे, आमतौर पर आपने देखा होगा कि शादी के मंत्र पुरुष पंडित ही पढ़ते हैं, लेकिन इस तस्वीर में एक महिला पंडित शादी के मंत्र पढ़ते हुए देखी जा सकती हैं।

इस तस्वीर को शेयर करते हुए दीया ने बताया कि आखिर उन्होंने अपने घर के गार्डन में और महिला पंडित की मौजूदगी में शादी क्यों की? दीया ने अपने कैप्शन में लिखा है, ‘वह गार्डन जहां मैंने अपने जीवन के 19 सालों की हर सुबह बिताई है, ये मेरे लिए एक जादुई जगह थी और हमारी सिंपल और सोलफुल शादी के लिए ये जगह एकदम परफेक्ट थी। प्लास्टिक या किसी भी कचरे के बिना पूरी तरह से स्थायी समारोह आयोजित करने में सक्षम होने पर हमें बहुत गर्व है। हमने अपनी शादी के लिए न्यूनतम चीजों का इस्तेमाल किया, जोकि पूरी तरह से बायोडिग्रेडेबल और प्राकृतिक थी।’ (ये भी पढ़ें- क्या करीना के दूसरे बेबी की भी डिलीवरी कराएंगे ये डॉक्टर? इसके पीछे है एक दिलचस्प वजह)

महिला प्रीस्ट के द्वारा शादी के मंत्र पढ़े जाने पर दीया ने लिखा है, ‘हमारे लिए सर्वोच्च बिंदु एक महिला पुजारी द्वारा आयोजित वैदिक समारोह था! मैंने अपनी बचपन की दोस्त अनन्या की शादी से पहले कभी भी एक महिला पंडित को शादी के मंत्र पढ़ते हुए नहीं देखा था। अनन्या की तरफ से मुझे और वैभव को शादी के गिफ्ट के रूप में शीला अट्टा मिलीं, जोकि मेरी दोस्त अनन्या की चाची होने के साथ एक महिला पंडित भी हैं। वह (अनन्या) भी श्रमसाध्य रूप से कई घंटों के प्रशिक्षण के माध्यम से शास्त्रों के सार को ग्रहण करने के लिए चली गई, ताकि वह शीला अट्टा की सहायता कर सके और श्लोकों का अनुवाद कर सके! इस तरह की शादी मेरे लिए बहुत खुशी की बात थी।’

दीया ने मैरिड गोल्स देते हुए आगे लिखा है, ‘हम अपने पूरे दिल से उम्मीद करते हैं कि कई कपल्स इस तरह की शादी को चुनें। क्योंकि शादी में जब एक महिला की आत्मा जुड़ती है, तो वह आपकी जिंदगी में प्यार, आश्चर्य, विश्वास, जादुई शक्ति, कोमलता और गहरी सहानुभूति लाता है। यह समय महिलाओं के लिए अपनी स्वयं की एजेंसी, उनकी दिव्यता, उनकी शक्ति और जो कुछ पुराने जमाने से चलता आ रहा है, उसे नए सिरे से परिभाषित करने का है। जैसा कि चार्ल्स बुकोव्स्की (Charles Bukowski) ने कहा था, ‘उनकी आग में कोई झूठ नहीं है।’ तो एक शादी में मंत्र पढ़ने वाली महिला के दिल और आत्मा के भीतर पवित्र अग्नि को देखने से ज्यादा उत्थान और सशक्त क्या हो सकता है? मैं अभी भी इस एक पल के जादू से अभिभूत हूं। इसके साथ ही, हमने ‘कन्यादान’ और ‘विदाई’ के लिए भी मना किया। क्योंकि पसंद के साथ बदलाव शुरू होता है। सही कहा ना?’ अपने कैप्शन के साथ दीया ने जनरेशन समानता पर फोकस किया है। (ये भी पढ़ें- करीना कपूर के बेटे के जन्म की अनदेखी फोटो आई सामने, जानें डिलीवरी के वक्त कितना था तैमूर का वेट)

फिलहाल, दीया ने हिंदू ट्रेडिशन के कई पन्नों को पलटकर अपना एक लॉजिक सेट किया है और महिला पंडित से लेकर कन्यादान व विदाई तक के शब्द को बदलकर एक नया गोल लोगों के सामने रखा है। तो इस पर आपकी क्या राय है? हमें कमेंट करके जरूर बताएं, साथ ही कोई सुझाव हो तो अवश्य दें।

(फोटो क्रेडिट- दीया)
BollywoodShaadis.com © 2021, Red Hot Web Gems (I) Pvt Ltd, All Rights Reserved.