शादी में इसलिए वर-वधू लेते हैं सात फेरे, जानिए हर वचन का खास मतलब

अग्नि को साक्षी मानकर अपनों के बीच वर-वधू सात फेरों के दौरान एक-दूसरे से जिंदगी भर साथ निभाने के साथ कई वचन लेते हैं और एक नए रिश्ते की शुरुआत करते हैं। हर एक फेरे के साथ वर-वधू एक-दूसरे को एक नया वचन देते हैं। जानिए हर वचन का खास मतलब।

img

By Manali Rastogi Last Updated:

शादी में इसलिए वर-वधू लेते हैं सात फेरे, जानिए हर वचन का खास मतलब

हर लड़की चाहती है कि उसे अपने सपनों का राजकुमार मिले। जिंदगी में एक पड़ाव ऐसा आता है, जब ये सपना सच हो जाता है। अपने सभी सगे-संबंधियों और खास दोस्तों के सामने वर-वधू सात फेरे लेते हैं, जिनका हिंदू शादी में एक महत्वपूर्ण स्थान होता है। अग्नि को साक्षी मानकर अपनों के बीच वर-वधू सात फेरों के दौरान एक-दूसरे से जिंदगी भर साथ निभाने के साथ कई वचन लेते हैं और एक नए रिश्ते की शुरुआत करते हैं। हर एक फेरे के साथ वर-वधू एक-दूसरे को एक नया वचन देते हैं। ये वर-वधू के लिए खास पल होता है।

क्या होता है सात फेरे लेने का मतलब?

हिंदू धार्मिक ग्रंथों में सोलह संस्कार की बात की गई है, जिसमें से एक संस्कार है विवाह का। विवाह का शाब्दिक अर्थ होता है उत्तरदायित्व का वहन करना। अन्य धर्मों में विवाह एक करार होता है, जबकि हिंदू धर्म में यह जन्म-जन्मांतर का संबंध होता है, जिसको किसी भी परिस्थिति में तोड़ा नहीं जा सकता है। विवाह के समय वर-वधू अग्नि के सात फेरे लेकर और ध्रुव तारे को साक्षी मानकर तन, मन और आत्मा से एक पवित्र बंधन में बंध जाते हैं। हिंदू विवाह में साथ फेरे लेने की रस्म को काफी महत्व दिया गया।

ये भी पढ़ें: हिंदू नववधू के लिए बेहद खास है ‘सोलह श्रृंगार’, जानिए इसका असली महत्व

सनातन धर्म की परंपरा के मुताबिक, विवाह संस्कार के दौरान वर-वधू के फेरे होते हैं और फेरों के दौरान भावी पति-पत्नी एक-दूसरे को सात वचन देते हैं। सात फेरों को सप्तपदी भी कहा गया है। इन सात फेरों को पति-पत्नी को जिंदगी भर निभाना होता है। मान्यताओं के अनुसार, सात फेरे किसी हिंदू विवाह की स्थिरता का मुख्य स्तंभ होते हैं।

पत्नी वामांग क्यों?

कई लोगों के मन में ये भी सवाल उठता है कि आखिर वधू वर के बायीं ओर ही क्यों बैठती है? दरअसल पति-पत्नी का रिश्ता काफी नाजुक होता है। यह विश्वास पर कायम रहता है। जैसे ताली एक हाथ से नहीं बज सकती, वैसे ही पति-पत्नी का रिश्ता भी एक की वजह से नहीं चल सकता। ऐसे में दोनों का एकसाथ काम करना और साथ में बढ़ना बेहद जरुरी है। कहते हैं पत्नी पति का आधा अंग होती है। इसलिए दोनों में कोई भेद नहीं होता।

मान्यताओं के अनुसार, पत्नी को पति के बायीं ओर इसलिए बैठाया जाता है क्योंकि पत्नी को वामांगी भी कहा गया है। वामांगी का मतलब होता है पति का बायां भाग। बता दें कि पुरुषों के दाएं और महिलाओं के बाएं हिस्से को शरीर विज्ञान और ज्योतिषों द्वारा शुभ माना गया है। महिलाओं का बायां हाथ ही हस्त ज्योतिष में भी देखा जाता है। मनुष्य के शरीर का बायां हिस्सा खासतौर पर मस्तिष्क रचनात्मकता का प्रतीक माना जाता है। दायां हिस्सा कर्म प्रधान होता है। यही वजह है कि जब सात वचन लिए जाते हैं तो हर वचन के बाद वधू कहती है कि ‘मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूं’। इसक मतलब ये होता है कि वधू वर के बायीं ओर आने को तैयार है।

क्यों लिए जाते हैं सात फेरे?

होने वाले वर-वधू के साथ कई अन्य लोग ऐसे हैं, जिनके मन में ये सवाल आता है कि आखिर सात फेरे ही क्यों लिए जाते हैं। अगर आपके मन में भी सवाल आता है तो हम आपको इसका जवाब देंगे। मान्यताओं के अनुसार, मानव जीवन के लिए 7 की संख्या बहुत विशिष्ट मानी गई है। अगर आप भारतीय संस्कृति पर ध्यान देंगे तो आपको मालूम चलेगा कि भारतीय संस्कृति में संगीत के 7 सुर, इंद्रधनुष के 7 रंग, 7 ग्रह, 7 तल, 7 समुद्र, 7 ऋषि, सप्त लोक, 7 चक्र, सूर्य के 7 घोड़े, सप्त रश्मि, सप्त धातु, सप्त पुरी, 7 तारे, सप्त द्वीप, 7 दिन, मंदिर या मूर्ति की 7 परिक्रमा, आदि का उल्लेख किया गया है। यही वजह है कि हिंदू विवाह में फेरों की संख्या भी 7 है।

आइए जानते हैं इन सात वचनों का महत्व…

#1. पहला वचन

फोटो क्रेडिट- Dino Jeram Photography

पहले वचन में कन्या वर से यह मांग करती है कि अगर वर कभी तीर्थयात्रा करने जाए तो उसे भी अपने साथ लेकर जाए। अगर वर कोई व्रत-उपवास या अन्य धार्मिक कार्य करे तो आज की भांति ही उसे बायीं ओर बिठाए। फिर कन्या वर से पूछती है कि अगर उसे यह स्वीकार है तो वो उनके वामांग में आना स्वीकार करती है।

#2. दूसरा वचन

फोटो क्रेडिट- DKREATE Photography

दूसरे वचन में वधू वर से वचन लेती है कि जिस तरह वर अपने माता-पिता का सम्मान करते हैं, वैसे ही वो उनके भी माता-पिता का सम्मान करेंगे और परिवार की मर्यादा के अनुसार धर्मानुष्ठान करते हुए ईश्वर के भक्त बने रहेंगे। अगर आपको ये स्वीकार है तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूं।

ये भी पढ़ें: प्यार और इकरार के बाद भी अधूरी थी राज कपूर-नरगिस की प्रेम कहानी, जानिए क्यों

#3. तीसरा वचन

फोटो क्रेडिट- Cupcake Productions

कन्या तीसरे वचन में कहती है कि वर उसे वचन दे कि जीवन की तीनों अवस्थाओं (युवावस्था, प्रौढ़ावस्था, वृद्धावस्था) में वर उसका पालन करता रहे। अगर वह इसे स्वीकार करता है तो कन्या उसके वामांग में आना स्वीकार करती है।

#4. चौथा वचन

फोटो क्रेडिट- Dino Jeram Photography

वधू चौथे वचन में ये कहती है कि अब आप विवाह के बंधन में बंधने जा रहे हैं तो ऐसे में परिवार की सभी आवश्यकताओं की पूर्ति का पूरा दायित्व आपके कंधों पर होगा। अगर आप इस भार को संभालने में सक्षम हैं और इसे वहन करने की प्रतिज्ञा आप लेते हैं तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूं।  

#5. पांचवा वचन

फोटो क्रेडिट- Dino Jeram Photography

अपने होने वाले वर से कन्या परिवार को सुखी बनाए रखने के लिए पांचवा वचन लेती है, जिसमें वो कहती है कि अपने घर के कार्यों में, विवाह आदि, लेन-देन और किसी अन्य चीज पर खर्चा करते समय अगर आप मेरी भी राय लिया करेंगे तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूं।  

ये भी पढ़ें: 20 से 52 लाख तक के महंगे मंगलसूत्र पहनती हैं ये 10 बॉलीवुड अभिनेत्रियां, देखिए उनकी झलक

#6. छठा वचन

फोटो क्रेडिट- Dino Jeram Photography

कन्या छठवें वचन में कहती है कि अगर मैं किसी समय अपनी सहेलियों या अन्य महिलाओं के साथ बैठी रहूं तो आप किसी के सामने किसी भी वजह को लेकर मेरा अपमान नहीं करेंगे। इसके अलावा आप अपने आपको जुआ या किसी अन्य प्रकार की बुराइयों से दूर रखेंगे। अगर आप यह मानते हैं तो ही मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूं।

#7. सातवां वचन

फोटो क्रेडिट- Dino Jeram Photography

कन्या आखिरी और सातवें वचन के रूप में वर से यह मांग करती है कि वह पराई महिलाओं को अपनी मां सामान समझेंगे और पति-पत्नि के आपसी प्रेम के बीच किसी को भागीदार नहीं बनाएंगे। अगर आप मुझे यह वचन देते हैं तो मैं आपके वामांग में आना स्वीकार करती हूं।

हर धर्म में वर-वधुओं को लेकर अलग-अलग मान्यताएं होती हैं। मगर इन सबके पीछे का महत्व एक ही होता है और वो है कि दोनों ही एक-दूसरे के प्रति समर्पित रहें और एक-दूसरे का सम्मान करें। इन सभी वचनों का अर्थ है कि दंपति एक-दूसरे से प्यार तो करे ही, साथ में एक-दूसरे का सम्मान भी करें। इसके अलावा हर अच्छे और बुरे समय में एक-दूसरे को सहारा दें।

trending
latest

Loading...

BollywoodShaadis.com © 2020, Red Hot Web Gems (I) Pvt Ltd, All Rights Reserved.