आखिर क्यों पिता राज कपूर से राजीव कपूर को थी इतनी नाराजगी? अंतिम संस्कार में भी नहीं हुए थे शामिल

अपनी नाकामयाबी के लिए राजीव कपूर (Rajiv Kapoor) अपने पिता राज कपूर (Raj Kapoor) को जिम्मेदार मानते थे। आखिर क्यों था ऐसा? आज की इस स्टोरी में हम आपको बताने जा रहे हैं..

img

By Shikha Yadav Last Updated:

आखिर क्यों पिता राज कपूर से राजीव कपूर को थी इतनी नाराजगी? अंतिम संस्कार में भी नहीं हुए थे शामिल

बॉलीवुड एक्टर ऋषि कपूर (Rishi Kapoor) के जाने के गम से कपूर परिवार अभी उबर ही नहीं पाया था कि, उनके परिवार के एक और सदस्य ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। राज कपूर के छोटे बेटे राजीव कपूर (Rajiv kapoor) अब इस दुनिया में नहीं रहे। हार्ट अटैक की वजह से मात्र 58 साल की उम्र में उनका निधन हो गया। सबसे पहले आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, अपने जमाने के मशहूर अभिनेता रह चुके राज कपूर के 5 बच्चे थे। उनके बेटों का नाम रणधीर कपूर, ऋषि कपूर और राजीव कपूर है, जबकि बेटियों के नाम रीमा कपूर और रितु नंदा हैं। राज कपूर के तीनों बेटों रणधीर, ऋषि और राजीव कपूर के बीच जबरदस्त बॉन्डिंग थी, और इसका एक नमूना टीवी पर भी देखने को मिला था, जब करण जौहर के शो ‘कॉफ़ी विद करण’ में ‘कपूर ब्रदर्स’ मेहमान बनकर पहुंचे थे। इस शो में तीनों भाइयों ने एक-दूसरे के बारे में कई चौंकाने वाले खुलासे किए थे, जबकि जानी-मानी राइटर मधु जैन भी अपनी किताब में परिवार के बारे में हैरान कर देने वाली कई बातें बता चुकी हैं। इन्हीं के कुछ अंश इस स्टोरी में हम आपको बताने जा रहे हैं..

ग्यारहवीं फेल हैं 'कपूर ब्रदर्स' 

क्या आप जानते हैं, फिल्म इंडस्ट्री में अपने नाम का परचम लहराने वाले ये तीनों ही अभिनेता ग्यारहवीं फेल हैं? जी हां, इस बात का खुलासा खुद उन्होंने करण जौहर के शो पर किया था। एपिसोड में तीनों ने अपनी फैमिली लाइफ के अलावा स्कूल लाइफ और प्रोफेशनल लाइफ के बारे में भी बात की थी। अपने स्कूल के दिनों के बारे में बात करते हुए राजीव कपूर ने बताया था कि, सब उनसे बड़े थे और पास हो चुके थे, ऐसे में उनके साथ केवल ऋषि कपूर ही बचे थे। राजीव कपूर की बात को बीच में काटते हुए ऋषि कपूर कहते हैं, “मैं पास नहीं हुआ था, बल्कि फेल हुआ था”। इस पर रणधीर कपूर कहते हैं, “हम सब फेल हुए थे। हम सब के सब फेल हुए थे”। तभी अचानक ऋषि कपूर कहते हैं, “हम सब 11वीं फेल हैं”। इसके बाद करण जौहर पूछते हैं कि, क्या कोई भी कॉलेज नहीं गया है? इस पर रणधीर कपूर ने कहा था, “केवल लड़कियां ही कॉलेज गई हैं, रितु और रीमा”। इस पर ऋषि कपूर ने कहा था, “और हां रणबीर, हां, रणबीर कॉलेज गया था”। (ये भी पढ़ें: राजीव कपूर की लव लाइफ: शादी के दो साल बाद ही हो गया था तलाक, इन एक्ट्रेसेस से जुड़ा था नाम)

इस वजह से राजीव कपूर का नाम पड़ा था 'चिंपू' 

इस बातचीत के दौरान, ‘कपूर ब्रदर्स’ ने अपने बचपन के दिनों को भी याद किया था। राजीव कपूर ने बताया था कि, उनके दोनों बड़े भाई ऋषि कपूर और रणधीर कपूर उन्हें खूब परेशान किया करते थे। राजीव कपूर ने कहा था, “रणधीर कपूर से 15 साल और ऋषि कपूर से 10 साल छोटे होने की वजह से अक्सर मेरी बातों को उतनी अहमियत नहीं दी जाती थी। आपकी बात तभी सुनी जाती थी, जब उसे आप काफी गंभीरता से सबके सामने रखते थे, तब जाकर आपकी बातों पर विचार किया जाता था”। इस दौरान ऋषि कपूर ने इस बात का भी खुलासा किया था कि, राजीव कपूर का नाम ‘चिंपू’ कैसे पड़ा था। ऋषि कपूर ने बताया था कि, ‘चैंपियन’ शब्द से ‘चिंपू’ लिया गया था। ये नाम उन्हें उनके दिवंगत पिता राज कपूर जी ने दिया था। करण जौहर ने ऋषि और रणधीर कपूर से पूछा था कि, उनके और राजीव कपूर के उम्र में बहुत बड़ा फासला है, इस पर वे कैसा महसूस करते हैं? इस पर रणधीर ने कहा था, “वो मेरे बेटे हैं। मैं उन्हें अपने बेटे की तरह ट्रीट करता हूं”। (ये भी पढ़ें: रुबीना दिलैक और अविनाश सचदेव की लव स्टोरी का हुआ था दुखद अंत, जानें क्या थी ब्रेकअप की वजह)

इस बात को जारी रखते हुए ऋषि कपूर ने कहा था, “जैसा कि मेरे पिता और मेरे सबसे छोटे चाचा (शशि कपूर) के बीच है। उनके बीच में भी इतना ही ऐज गैप था, जितना कि डब्बू (रणधीर कपूर) और चिंपू (राजीव कपूर) के बीच में है”। राजीव कपूर तीनों भाइयों में सबसे छोटे थे। फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ और ‘एक जान हैं हम’ में उनकी परफॉरमेंस को आज भी याद किया जाता है। हालांकि, बतौर अभिनेता राजीव कपूर अपनी पहचान बनाने में असफल रहे थे, जिसके बाद वे फिल्म डायरेक्ट और प्रोड्यूस करने लगे थे। राजीव कपूर ने ऋषि कपूर और माधुरी दीक्षित को लेकर फिल्म ‘प्रेम ग्रंथ’ बनाई थी, जो कि बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप रही थी। (ये भी पढ़ें: पिता धर्मेंद्र के साथ बॉबी देओल की ये अनदेखी फोटो आई सामने, बचपन में बेहद क्यूट दिखते थे एक्टर)   

‘सिनेस्तान डॉट कॉम’ से बातचीत के दौरान राजीव कपूर ने बताया था कि, क्यों उनका करियर कामयाब नहीं हो पाया था। राजीव कपूर ने कहा था, “जहां तक मेरे करियर की बात है, ‘राम तेरी गंगा मैली’ मेरे करियर की बेस्ट फिल्म थी। बाकी फिल्मों ने इतना अच्छा प्रदर्शन नहीं किया था, लेकिन सभी खराब थीं, यह कहना भी गलत होगा। दुख की बात ये है कि, सभी मुझे शम्मी कपूर की तरह प्रोजेक्ट करना चाहते थे, क्योंकि मैं उनकी तरह दिखता था। अगर आसान भाषा में कहा जाए तो- हिट ही फिट है। अगर आपकी फिल्में अच्छा करती हैं, तो बात कुछ और ही होती है। मैंने कुछ अच्छी फिल्में भी की हैं, जिनका म्यूजिक काफी अच्छा था, लेकिन सभी फिल्मों ने अच्छा नहीं किया”। राजीव कपूर आखिरी बार साल 1990 की फिल्म ‘जिम्मेदार’ में दिखाई दिए थे।  

राजीव कपूर की प्रोफेशनल लाइफ तो कुछ खास नहीं रही, और न ही अपनी पर्सनल लाइफ में वे कामयाब हुए। उन्होंने साल 2001 में आरती सबरवाल से शादी की थी, जो कि पेशे से एक आर्किटेक्ट थीं। शादी के कुछ टाइम बाद ही दोनों के बीच अनबन शुरू हो गई थी। दोनों ने अपनी शादी को बचाने की पूरी कोशिश की थी, लेकिन उनका रिश्ता बच नहीं पाया और 2 साल बाद ही तलाक हो गया। आरती से तलाक के बाद राजीव कपूर ने दोबारा शादी नहीं की, पर उनका नाम कुछ बॉलीवुड अभिनेत्रियों के साथ जरूर जुड़ा था। उन दिनों खबरें आई थीं कि, आरती से तलाक लेने के बाद वे नगमा और दिव्या रानी को डेट कर रहे हैं। हालांकि, राजीव कपूर ने डेटिंग की खबरों को खारिज करते हुए इस तरह की अफवाहों को झूठा बताया था।

आखिर क्यों पिता राज कपूर से नाराज थे राजीव?

कहा तो यह भी जाता है कि, राजीव कपूर ने अपने गिरते हुए करियर ग्राफ के पीछे पिता राज कपूर को जिम्मेदार ठहराया था और इस वजह से वे इतने नाराज थे कि, उन्होंने उनसे बात करनी भी छोड़ दी थी। इतना ही नहीं, वे उनके अंतिम संस्कार में भी शामिल नहीं हुए थे। दरअसल, साल 1983 में आई ‘एक जान हैं हम’ राजीव कपूर की पहली फिल्म थी, जिसे उनके पिता राज कपूर ने बनाया था। यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह फ्लॉप हुई थी। इसके बाद राज कपूर ने राजीव को लेकर ‘राम तेरी गंगा मैली बनाई’, जो कि सुपरहिट साबित हुई, लेकिन फिल्म की सफलता का पूरा श्रेय फिल्म की एक्ट्रेस मंदाकिनी को चला गया। फिल्म में मंदाकिनी का किरदार इतना मजबूत था कि, उनकी परफॉरमेंस के आगे लोगों का राजीव कपूर का किरदार कमजोर लगा था। इस फिल्म के बाद राजीव कपूर की चर्चा तो हुई, लेकिन मंदाकिनी रातों-रात स्टार बन गई थीं। दरअसल, इन बातों का जिक्र राइटर मधु जैन ने अपनी किताब ‘The Kapoors: The First Family of Indian Cinema’ में किया है। किताब में कहा गया है कि, राजीव ने अपने पिता राज कपूर से रिक्वेस्ट की थी कि, वे उन्हें लेकर एक और फिल्म बनाएं, जिसमें उनका किरदार मजबूत हो, लेकिन राज कपूर ने उनके साथ एक और फिल्म बनाने से मना कर दिया था। इसके बाद से ही दोनों के बीच खटास आ गई थी।

इस तरह से राजीव कपूर की जिंदगी बहुत उतार-चढ़ाव भरी रही, पर ये भी सच है कि, वे अपने भाइयों से एक मजबूत बॉन्ड शेयर करते थे। आपको हमारी ये स्टोरी कैसी लगी? हमें कमेंट करके बताएं, साथ ही हमारे लिए कोई राय हो तो हमें अवश्य दें।  

(Photo Credit: Instagram)
latest
latest

Loading...

BollywoodShaadis.com © 2021, Red Hot Web Gems (I) Pvt Ltd, All Rights Reserved.