शबाना आज़मी की लव स्टोरी: शादीशुदा जावेद अख्तर का एक्ट्रेस पर ऐसे आया था दिल, फिर कर ली शादी

बॉलीवुड की एक्ट्रेस शबाना आज़मी (Shabana Azmi) और उनके पति व लेखक जावेद अख्तर की लव स्टोरी के बारे में बेहद ही कम लोगों को पता होगा। तो यहां हम आपको इनकी लव लाइफ के बारे में बताने जा रहे हैं।

img

By Hrishabh Parmar Last Updated:

शबाना आज़मी की लव स्टोरी: शादीशुदा जावेद अख्तर का एक्ट्रेस पर ऐसे आया था दिल, फिर कर ली शादी

गुज़रे जमाने की मशहूर अदाकारा शबाना आज़मी (Shabana Azmi) आज किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं। ये वेटरन एक्ट्रेस हिंदी सिनेमा की ऐसी मंझी हुई अदाकारा हैं जो खुद को हर किरदार के अनुरूप उसी सांचे ढाल लेती हैं। उन्होंने हिंदी फिल्मों में तरह-तरह के रोल अदा किये हैं। वह आज भी फिल्मों में सक्रिय हैं। शबाना न सिर्फ एक बेहतरीन अभिनेत्री हैं बल्कि वो बॉलीवुड के सबसे सफल लेखकों में से एक जावेद अख्तर (Javed Akhtar) की दूसरी पत्नी भी हैं। 18 सितंबर 1950 को जन्मीं शबाना ने बीते 70 सालों में अपनी ज़िंदगी में न जाने कितने उतार-चढ़ाव देखें हैं, तो चलिए जानते हैं उनकी ज़िंदगी से जुड़ीं कुछ खास बातें।

फिल्म एंड टेलिविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (FTII) से अपनी एक्टिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद शबाना ने साल 1974 में फिल्म 'अंकुर' से अपने एक्टिंग करियर की शरुआत की। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और फिल्म 'अकुंर' के बाद लगातार तीन सालों तक उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा गया। 'अर्थ', 'खंडहर', और 'पार' जैसी फिल्मों के भी लिए उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया। 

जिस, वक्त शबाना आज़मी बॉलीवुड में नयी थीं, उस वक्त लेखक जावेद अख्तर इंडस्ट्री का बड़ा नाम थे। सलीम-जावेद की जोड़ी 70 के दशक में बड़े पर्दे पर रूल कर रही थी और उनकी लिखी फिल्में कमाई के सारे रिकार्ड तोड़ रही थीं। उसी दौर में सलीम-जावेद की जोड़ी ने फिल्म 'शोले' लिखी जो हिन्दी फिल्मों के इतिहास में एक 'मील का पत्थर साबित' हुई। उस दौर में सलीम-जावेद कि पॉपुलैरिटी का आलम ये था कि वो फिल्म लिखने के लिए प्रोड्यूसर्स के आगे शर्त रखते थे कि लीड एक्टर भी फिल्म का वो ही डिसाइड करेंगे और सबसे ज्यादा फीस भी वही लेंगे। (ये भी पढ़ें: PM मोदी ने विराट कोहली व अनुष्का शर्मा को दी बधाई, लिखा- 'आप बेहतरीन पैरेंट्स बनेंगे...')

शबाना आज़मी से पहले हनी ईरानी से हुई जावेद अख्तर की शादी

हनी और जावेद की मुलाकात सलीम-जावेद की लिखी फिल्म ‘सीता और गीता’ के सेट पर हुई थी। दोनों जवान थे, इंडेपेंडिंट थे, और इसलिए दोनों की शादी में ज्यादा दिक्कतें नहीं आईं। फिल्म की शूटिंग पूरी होने के बाद सब लोग पत्ते खेल रहे थे। गेम में जावेद हार रहे थे, हनी ने कहा "लाओ तुम्हारे पत्ते मैं निकालती हूं।" जावेद ने जवाब दिया "अगर पत्ते अच्छे निकले तो मैं तुमसे शादी कर लूंगा।" पत्ते सही निकल गए, जावेद का गेम अब दोनों साइड सेट हो गया। खुद शर्मीले थे तो अपने जोड़ीदार सलीम ख़ान को हनी की मां से शादी की बात करने भेज दिया। सलीम ने जाकर लड़के का जो बखान किया वो आपने 'शोले' में कई बार देखा होगा। जब फिल्म में अमिताभ बच्चन (जय) अपने दोस्त (वीरू) धर्मेंद्र के लिए (बसंती) हेमा मालिनी का रिश्ता मांगने उनकी मौसी के पास जाते हैं। (ये भी पढ़ें: इस फिल्म ने दीपिका पादुकोण को दिलाई थी पहचान, पति रणवीर सिंह ने बताया कैसे बनीं बेहतर कलाकार)


यहां पहली बार मिले थे जावेद अख्तर और शबाना आज़मी

जावेद अपनी कविताएं सुनाने मशहूर शायर कैफ़ी आज़मी के घर जाया करते थे। कैफ़ी की एक बेटी थी और वो अलग तरह की फिल्मों में किरदार करने के लिए जानी जाती थीं उनका नाम शबाना आज़मी था। शबाना से पहली बार जावेद उनके घर पर ही मिले। एक ही जैसे घरेलू माहौल में पले-बढ़े होने के कारण दोनों में एक कंफर्ट लेवल था। लेकिन पहले थोड़ी हिचकिचाहट थी क्योंकि जावेद का रिलेशनशिप स्टेटस मैरिड था। लेकिन समय के साथ चीज़ें काफी बदलने लगी थीं पर आगे नहीं बढ़ पा रही थीं। ऐसे में जावेद ने पहला कदम बढ़ाया और एक पार्टी में जहां शबाना भी थीं, जावेद उनकी फिल्म ‘स्पर्श’ में उनकी परफॉरमेंस की तारीफ करने लगे। यहां से दोनों की लव स्टोरी की शुरुआत हुई। (ये भी पढ़ें: मीरा राजपूत ने बनाई फली की सब्जी, बताया- 'बच्चे तोड़कर लाए थे...')

दोनों के रिश्ते के खिलाफ थीं शबाना की मां

जब दोनों के रिलेशन की बात शबाना के पेरेंट्स तक पहुंची तो उनका रुख सख्त हो गया। शबाना की मां शौकत तो इसके सख्त खिलाफ थीं। लेकिन पापा चिल्ड आउट थे, उन्हें बस जावेद के शादीशुदा होने से समस्या थी। शबाना ने अपने पापा से पूछा "क्या वो मेरे लिए सही नहीं है?" पापा ने कहा "वो गलत नहीं है, परिस्थितियां गलत हैं।" शबाना ने पूछा "अगर वो परिस्थितियां बदल दें तो?" जवाब आया "तब तो सब ठीक हो जाना चाहिए।"

हनी ईरानी ने खुद जावेद अख्तर को शबाना आज़मी के पास भेज दिया

शबाना और जावेद के रिलेशनशिप की खबर हनी को भी थी। पहले उन्होंने बातों को नज़रअंदाज़ किया, लेकिन फिर घर का माहौल बिगड़ने लगा। रोज़ झगड़े होने लगे। हनी को जैसे ही ये एहसास हुआ कि उनके पति अब उनसे प्यार नहीं करते हैं, तो उन्होंने जावेद को शबाना के पास जाने को कह दिया। किसी भी महिला के लिए संसार में अपने जीवनसाथी को यूं किसी दूसरे के पास जाने देना पहाड़ जैसा भयंकर कष्ट होता है। लेकिन जावेद से बिगड़ते रिश्ते को देख हनी ने ये विष पीना स्वीकार किया।

7 साल की शादी के बाद हनी-जावेद ने लिया तलाक 

आपस में बढ़ते तनाव को देखकर हनी ने जावेद को पूरा फ्री कर दिया। शादी के 7 साल बाद हनी और जावेद अलग हो गए। लेकिन तलाक होने तक साल 1984 आ गया। हनी से तलाक लेने के बाद जावेद ने शबाना से 9 दिसंबर 1984 को शादी कर ली। उनके बच्चे अपनी मां के साथ रहते थे। किसी मेडिकल प्रॉब्लम की वजह से जावेद-शबाना की कोई औलाद नहीं हो सकी। हनी ईरानी और जावेद अख्तर के बच्चों की शबाना आज़मी से अच्छी बॉन्डिंग है लेकिन दोनों पत्नियों के बीच रिश्ते खास नहीं हैं।

शबाना ने फिल्मों में बनाई अलग पहचान

उस दौर में शबाना ने खुद को ग्लैमरस अभिनेत्रियों की भीड़ से अलग साबित किया। फिल्म 'अर्थ', 'निशांत', 'अंकुर', 'स्पर्श', 'मंडी', 'मासूम', 'पेस्टॅन जी' में शबाना आजमी ने अपने अभिनय की अमिट छाप दर्शकों पर छोड़ी। 'अमर अकबर एंथोनी', 'परवरिश', 'मैं आजाद हूं' जैसी कॉर्मिशियल फिल्मों में भी अपने अभिनय के रंग भरकर शबाना आजमी ने फिल्म समीक्षकों के साथ-साथ आम दर्शकों के बीच भी प्रशंशा बटोरी।

फिलहाल, शबाना आज़मी अपनी शादीशुदा ज़िंदगी के 36 साल बाद भी जावेद अख्तर के साथ खुश हैं। हम उम्मीद करते हैं आने वाले समय में भी वो अपने पति के साथ एंजॉय करती रहें। तो आपको हमारी शबाना-जावेद की ये लव स्टोरी कैसी लगी? हमें कमेंट करके जरूर बताएं, साथ ही हमारे लिए कोई सलाह हो तो अवश्य दें। 
 

(फोटो क्रेडिट: इंस्टाग्राम)
latest
latest

Loading...

BollywoodShaadis.com © 2020, Red Hot Web Gems (I) Pvt Ltd, All Rights Reserved.