जब पेरेंट्स की मौत के बाद शाहरुख खान की बहन को बचाना हो गया था मुश्किल, जानें उस वक्त का हाल

बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान का एक थ्रोबैक वीडियो सामने आया है, जिसमें उन्होंने बताया था कि कैसे पेरेंट्स के निधन के बाद उनकी बहन और उन्होंने खुद को अलग तरीके से संभाला था।

img

By Rinki Tiwari Last Updated:

जब पेरेंट्स की मौत के बाद शाहरुख खान की बहन को बचाना हो गया था मुश्किल, जानें उस वक्त का हाल

किसी भी बच्चे के लिए उसके माता-पिता सबसे ऊपर होते हैं। बच्चे के लिए उसके माता-पिता उस साये की तरह होते हैं, जो उन्हें हर मुश्किलों से बचाते हैं, जो उन्हें हमेशा सही रास्ता दिखाते हैं और सपोर्ट करते हैं। लेकिन जब कोई बच्चा अपने पेरेंट्स को खोता है, तो ये उसकी जिंदगी की सबसे बड़ी क्षति होती है, जिसे इस दुनिया में कोई नहीं पूरा कर सकता है। माता-पिता एक बच्चे को जितना सुकून देते हैं, वो कोई भी नहीं दे सकता है, लेकिन जब उनके पेरेंट्स का निधन होता है, तो बच्चे शारीरिक और मानसिक रूप से टूट जाते हैं। इस दुख से बॉलीवुड एक्टर शाहरुख खान (Shahrukh Khan) और उनकी बहन शहनाज लालारुख खान (Shehnaz Lalarukh Khan) भी गुजर चुके हैं। हाल ही में, शाहरुख खान का एक थ्रोबैक वीडियो सामने आया है, जिसमें वह बताते नजर आ रहे हैं कि कैसे उनके पेरेंट्स के निधन के बाद एक्टर और उनकी बहन शहनाज के जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ा था।

आपको वो वीडियो दिखाएं, उससे पहले ये जान लीजिए कि, 2 नवंबर 1965 को दिल्ली में जन्मे शाहरुख खान के पिता का नाम स्वर्गीय मीर ताज मोहम्मद खान और माता का नाम लतीफ फातिमा खान है। शाहरुख खान की परवरिश दिल्ली में हुई है। शाहरुख़ खान के पिता मीर ताज मोहम्मद खान की कैंसर से 1981 में मौत हो गई थी, वहीं उनकी मां ने 1991 में डायबिटीज में कुछ कॉम्प्लिकेशन होने के चलते दुनिया को अलविदा कह दिया था। अपने पेरेंट्स की मौत के बाद, एक्टर की बड़ी बहन शहनाज लालारुख को डिप्रेशन हो गया था, जिसके बाद शाहरुख़ ने उनकी जिम्मेदारी अपने कंधों पर ले ली थी। शहनाज अभी भी अपने भाई के साथ एक्टर के मुंबई स्थित घर में रहती हैं। (ये भी पढ़ें- पापा धर्मेंद्र के घर आने से पहले सलवार-कमीज पहन लेती थीं ईशा और अहाना, हेमा मालिनी ने बताई थी वजह)

अब बात करते हैं शाहरुख खान के थ्रोबैक वीडियो की। दरअसल, सोशल मीडिया पर इन दिनों शाहरुख खान का एक थ्रोबैक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह बताते नजर आ रहे हैं कि कैसे उन्होंने और उनकी बहन शहनाज लालारुख खान ने अपने माता-पिता के निधन का सामना किया था। शाहरुख ने कहा था, ‘उसने सिर्फ देखा, वह रोई नहीं, उसने कुछ नहीं कहा, वह बस गिर गई और उसके सिर पर चोट लगी। उसके बाद दो साल तक वह रोई नहीं थी, कुछ बोलती नहीं थी, वह बस अंतरिक्ष में देखती रहती थी। इस दुख की घड़ी ने उसकी दुनिया ही बदल दी थी।’

शाहरुख ने कहा था, ‘मेरा मेरी बहन का शोक करने का तरीका अलग था। मैंने किसी तरह झूठे भावों को विकसित किया। मैं हमेशा मुस्कुराते रहता, और मजबूती के साथ अपने दुख को छुपाता था, लेकिन मेरी बहन को हमारे माता-पिता को खोने के बाद गहरा झटका लगा था। वह कई चीजों से जूझने लगी थीं। मेरी फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ की शूटिंग के दौरान, वह फिर से अस्पताल में भर्ती हुईं और डॉक्टर्स ने कहा कि वह जीवित नहीं रहेंगी। जब मैं ‘तुझे देखा तो ये जाना सनम’ की शूटिंग कर रहा था, तब मैं उसे स्विटज़रलैंड ले गया, वहां उनका इलाज करवाया। लेकिन वह अपने पिता के अचानक निधन के दुख से कभी भी उबर नहीं पाई थीं। मुश्किलें तब और बढ़ गईं, जब पिता के निधन के 10 साल बाद मेरी मां की भी मौत हो गई।’ (ये भी पढ़ें- अभिनेता इफ़्तेख़ार खान की लव लाइफ: पत्नी को छोड़कर यहूदी लड़की पर आया था एक्टर का दिल)

अपने माता-पिता के दुख से शाहरुख खान कैसे उबरे?

इस बात को लेकर एक्टर ने कहा था, ‘मैं बहुत खुश हूं कि वह (शाहरुख की बहन) हमारी जिंदगी का एक पार्ट है। लेकिन मेरे अंदर इतना सरल, आहत और परेशान होने की हिम्मत नहीं है। इसलिए मैं काम के इर्द-गिर्द खुद को व्यस्त रखता हूं, खुश रहता हूं। इसके अलावा जो मैं करता हूं, उसका मजाक बनाता हूं, व फिर भी उन्हें करता हूं और खुश रहता हूं। क्योंकि अगर मैं ये नहीं करता, तो मुझे लगता है कि मैं पोटैशियम की कमी और अवसाद की एक स्थिति में होता। इसलिए, अवसाद से बचने के लिए, मैं कार्य करता रहता हूं और खुद को बिजी रखता हूं।’

वहीं, एक बार रानी मुखर्जी को एक प्रमोशनल इवेंट में शाहरुख़ ने बताया था, ‘मैं 15 साल का था जब मेरा पिता गुजरे और 26 साल का था जब मेरी मां की मौत हुई। ये हमारे लिए काफी दुखदायी था। मेरे पेरेंट्स के बिना खाली घर हमें काटने को दौड़ता था। अकेलापन, दर्द और पेरेंट्स को खोने का दुःख इतना गहरा है कि उससे उबरने में मेरी पूरी जिंदगी कम पड़ जाएगी।’ (ये भी पढ़ें- नकुल मेहता-जानकी पारेख की शादी की अनदेखी तस्वीरें आईं सामने, देखें वेडिंग ड्रेस में कैसे लग रहा कपल)

फिलहाल, इतना तो साफ है कि शाहरुख खान बहुत ही मजबूत शख्सियत हैं, जो इतने गहरे दर्द को अपनी सीने में छुपाकर हमेशा हंसते रहते हैं। तो क्या आपने कभी अपने गहरे दुख को छुपाकर मजबूती और स्माइल के साथ किसी दुख के पलों को पार किया है? हमें कमेंट करके जरूर बताएं, साथ ही कोई सुझाव हो तो अवश्य दें।

(फोटो क्रेडिट- शाहरुख फैन, शाहरुख)
BollywoodShaadis.com © 2021, Red Hot Web Gems (I) Pvt Ltd, All Rights Reserved.