सिद्धू मूसे वाला से जुड़ी अनसुनी बातें: विवादों से रहा है नाता, तय किया सिंगर से नेता बनने तक का सफर

इस आर्टिकल में हम आपको दिवंगत सिंगर और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसे वाला के उन तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो शायद ही आपको पता होंगे।

img

By Rinki Tiwari Last Updated:

सिद्धू मूसे वाला से जुड़ी अनसुनी बातें: विवादों से रहा है नाता, तय किया सिंगर से नेता बनने तक का सफर

पंजाबी सिंगर शुभदीप सिंह सिद्धू उर्फ सिद्धू मूसे वाला (Sidhu Moose Wala) अपनी जादुई आवाज के चलते लाखों दिलों पर राज करते थे। वह एक ऐसे पंजाबी गायक से कांग्रेसी नेता बने थे, जिनके लाखों प्रशंसक थे और इसकी झलक उनके प्रत्येक मंच प्रदर्शन में देखी जाती थी। हालांकि, 29 मई 2022 को पंजाब के मानसा में उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई।

Sidhu Moose Wala

यह घटना तब हुई थी, जब पंजाब पुलिस ने पंजाबी गायक समेत 424 लोगों से सुरक्षा वापस ले ली थी। कथित तौर पर भगवंत मान सरकार द्वारा वीआईपी संस्कृति पर नकेल कसने की कवायद के बाद सुरक्षा वापस ले ली गई थी। गोली लगने के बाद गायक से नेता बने अभिनेता को पास के अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। उनके निधन से पूरा देश स्तब्ध है।

(ये भी पढ़ें- जोस बटलर की लव स्टोरी: क्रिकेटर की प्रेम कहानी है बेहद फिल्मी, पत्नी को मानते हैं लकी चार्म)

Sidhu Moose Wala

भले ही अब सिद्धू मूसे वाला इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन वह अपने चाहने वालों के दिलों में हमेशा जिंदा रहेंगे। यहां हम आपको आपके पसंदीदा सिद्धू से जुड़े कुछ अनसुने किस्सों के बारे में बताने जा रहे हैं।

सिख परिवार का जन्म

Sidhu Moose Wala with mother

पंजाबी गायक सिद्धू मूसे वाला पंजाब के राजकुमार थे, जो राज्य के मानसा जिले के मूसा गांव में पैदा हुए थे। उनका जन्म 11 जून 1993 को एक सिख परिवार में हुआ था। उनके पिता भोला सिंह हैं और उनकी माता चरण कौर एक ग्राम प्रधान हैं। गायक अपने माता-पिता के साथ एक मधुर संबंध साझा करते थे, जिसकी झलक उनके हाल ही में रिलीज़ हुए ट्रैक ‘डियर मम्मा और बापू’ में देखने को मिलती है।

इंजीनियरिंग छात्र थे सिद्धू मूसे वाला

Sidhu Moose Wala

सिद्धू मूसे वाला ने लुधियाना के गुरु नानक देव इंजीनियरिंग कॉलेज से पढ़ाई की थी। उन्होंने 2016 में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में स्नातक किया था। हालांकि, गायन के लिए उनका जुनून हमेशा उनके साथ था। वह डीएवी कॉलेज में हुए प्रोग्राम में शानदार प्रदर्शन करते थे। वो आगे की पढ़ाई के लिए कनाडा गए थे।

सिद्धू मूसे वाला के गानों को वैश्विक मान्यता

Sidhu Moose Wala Songs

सिद्धू मूसे वाला का गायन के प्रति प्रेम और गायक होने का जुनून छठी कक्षा में शुरू हो गया था। तब स्कूल जाने वाले सिद्धू ने लुधियाना में हरविंदर बिट्टू संगीत अकादमी से गायन सीखा था। 2018 में उन्होंने अपना पहला एल्बम ‘PBX1’ जारी किया था। यह एल्बम कैनेडियन एल्बम चार्ट पर चार्टर्ड था। इसने ‘2019 ब्रिट एशिया टीवी म्यूजिक अवार्ड्स’ में सर्वश्रेष्ठ एल्बम का पुरस्कार भी जीता था। इसके बाद से उन्होंने एक के बाद एक कई हिट गाने दिए। इससे पहले उन्हें 2017 में अपने गाने ‘सो हाई’ से सफलता मिली थी, जिसके लिए उन्होंने ‘ब्रिट एशिया टीवी म्यूजिक अवार्ड्स’ में सर्वश्रेष्ठ गीतकार का पुरस्कार भी जीता था।

Sidhu Moose Wala

जून 2019 में सिद्धू का सिंगल गाना ‘47’ ने खूब सुर्खियां बटोरी थीं, क्योंकि इसमें मिस्ट और स्टीफन डॉन जैसे दिग्गज भी नजर आए थे। उन्होंने ‘यूके सिंगल चार्ट’ पर शीर्ष 20 में प्रवेश किया था। यह गीत बेवजीलैंड हॉट 40 सिंगल चार्ट पर भी चार्टर्ड था। पंजाबी गायक को मनिंदर बुट्टर और करण औजला के साथ पंजाब में स्पॉटिफाई के सबसे लोकप्रिय कलाकारों में भी शामिल किया गया था।

गानों की वजह से सिद्धू मूसे वाला का विवादित जीवन

Sidhu Moose Wala

सिद्धू मूसे वाला को अक्सर समाज या किसी भी सामाजिक समूह के विभिन्न दृष्टिकोणों, भावनाओं, मूल्यों और व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता था। हालांकि, उनके गानों में बंदूकों के इस्तेमाल से कई धार्मिक भावनाओं को भी ठेस पहुंची थी। साल 2019 में रिलीज़ हुए उनका एक गाना ‘जट्टी जाने मोड़ दी बंदूक वर्गी’ ने 18वीं सदी की सिख योद्धा माई भागो के बारे में विवाद शुरू कर दिया था। कथित तौर पर गायक ने माई भागो को खराब रोशनी में दिखाया था। हालांकि, सिद्धू मूसे वाला ने इसके लिए माफी भी मांगी थी।

Sidhu Moose Wala

इसके अलावा, कोरोना महामारी के दौरान सिद्धू का एक वीडियो वायरल हो गया था, जिसमें उन्हें फायरिंग रेंज में एके-47 राइफल से फायरिंग करते हुए दिखाया गया था। इसके बाद 2020 में कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली तत्कालीन पंजाब सरकार ने पंजाबी सिंगर के एक गाने में कथित तौर पर गन कल्चर को बढ़ावा देने के आरोप में आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया था।

पंजाबी गायक से बने कांग्रेस नेता

Sidhu Moose Wala with Congress Leaders

सिद्धू मूसे वाला ने 2022 के पंजाब विधानसभा चुनाव में पंजाब के मानसा जिले से कांग्रेस टिकट से चुनाव लड़ा था। पंजाब कांग्रेस के तत्कालीन प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू ने पंजाबी गायक को एक युवा आइकन और एक अंतरराष्ट्रीय व्यक्तित्व करार दिया था। हालांकि, उन्हें आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार विजय सिंगला ने 63,323 मतों के काफी अंतर से हराया था। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सिद्धू मूसे वाला ने अप्रैल 2022 में लॉन्च हुए अपने गाने ‘बलि का बकरा’ से आम आदमी पार्टी और उनके समर्थकों पर निशाना साधा था और आप समर्थकों को 'गद्दार' भी कहा था।

Sidhu Moose Wala with Navjot Singh

(ये भी पढ़ें- सिद्धार्थ शुक्ला की 5 रोचक बातें: वर्ल्ड बेस्ट मॉडल से धार्मिक होने तक, जानें एक्टर के बारे में)

फिलहाल, सिद्धू मूसे वाला के निधन से उनके परिवार और फैंस काफी दुखी हैं। हम प्रार्थना करते हैं कि, भगवान उन्हें इस क्षति से उबरने में मदद करें।

BollywoodShaadis.com © 2022, Red Hot Web Gems (I) Pvt Ltd, All Rights Reserved.