`
20 August, 2021

कैप्टन विक्रम बत्रा-डिंपल चीमा की लव स्टोरी


यहां हम आपको ‘कारगिल हीरो’ शेरशाह यानी विक्रम बत्रा और उनकी गर्लफ्रेंड डिंपल चीमा की सच्ची प्रेम कहानी बताने जा रहे हैं।

By Rinki Tiwari

कारगिल युद्ध के 'शेरशाह'


कैप्टन विक्रम बत्रा ने 7 जुलाई 1999 को पाकिस्तान के खिलाफ ऐतिहासिक युद्ध में 4875 पॉइंट पर अपने एक साथी सैनिक को बचाते हुए अपनी जान की कुर्बानी दे दी थी।


कारगिल युद्ध के समय, उन्होंने कहा था, ‘या तो मैं तिरंगा फहराकर वापस आऊंगा, या तो मैं इसमें लिपटा हुआ वापस आऊंगा, लेकिन मैं निश्चित रूप से वापस आऊंगा।’

कैप्टन विक्रम बत्रा का सपोर्ट सिस्टम


इसमें कोई शक नहीं है कि, विक्रम बत्रा देश के एक ईमानदान सैनिक थे, लेकिन उनकी इच्छाशक्ति का सबसे बड़ा सोर्स उनकी गर्लफ्रेंड डिंपल चीमा थीं।


डिंपल हमेशा विक्रम बत्रा को पत्र लिखा करती थीं और देश के प्रति उनके प्यार और आखिरी सांस तक लड़ने के लिए विक्रम का समर्थन करती थीं।

डिंपल चीमा का परम बलिदान


कई लोगों को इस बात की जानकारी नहीं होगी कि, डिंपल चीमा ने किसी और से शादी न करके अपनी पूरी जिंदगी का बलिदान दिया और आज भी कैप्टन विक्रम बत्रा की विधवा बनकर गर्व से जी रही हैं।

विक्रम बत्रा और डिंपल चीमा की पहली मुलाकात


विक्रम बत्रा और डिंपल चीमा पहली बार साल 1995 में पंजाब यूनिवर्सिटी में मिले थे। इसके बाद दोनों की मुलाकातों का सिलसिला जारी रहा और फिर दोनों ने एक-दूसरे को डेट करना शुरू कर दिया था।

लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप


कुछ शानदार महीने एक साथ बिताने के बाद, विक्रम बत्रा भारतीय सैन्य अकादमी के लिए चयनित हो गए और साल 1996 में देहरादून चले गए थे। विक्रम और डिंपल के बीच इन दूरियों ने उनके रिश्ते को और मजबूत कर दिया था।


विक्रम बत्रा अपनी पोस्टिंग के दौरान जब भी चंडीगढ़ आते, वे डिंपल से जरूर मिलते। एक इंटरव्यू में डिंपल ने कहा था कि, वो और विक्रम एक-दूसरे के लिए गंभीर थे।

परिवार का प्रेशर


डिंपल चीमा का परिवार उन पर शादी करने का जोर देता, हालांकि वो और विक्रम इसके लिए सही समय का इंतजार कर रहे थे।


एक बार डिंपल अपनी शादी को लेकर काफी परेशान हो गई थीं, तब विक्रम ने कहा था कि, उन्हें अपनी पसंद की चीजों का अच्छे से ध्यान रखना चाहिए, वरना उन्हें वो सभी चीजें मिलती रहेंगी, जो उन्हें पसंद नहीं हैं।

चौथी परिक्रमा


विक्रम और डिंपल अक्सर मंसा देवी मंदिर और गुरुद्वारा श्री नाडा साहिब जाते रहते थे। इसी दौरान के एक खूबसूरत याद को डिंपल ने एक मीडिया पोर्टल के साथ शेयर किया था।


डिंपल चीमा ने कहा था, ‘परिक्रमा करते वक्त वह मेरे पीछे चल रहे थे। परिक्रमा पूरी करने पर उन्होंने अचानक मुझसे कहा, ‘बधाई हो मिसेज बत्रा।’


डिंपल ने आगे कहा था, ‘क्या आपको नहीं पता था कि, यह चौथी बार है, जब हम ये परिक्रमा कर रहे हैं?’ इसने मुझे पूरी तरह से हैरान कर दिया था। वो हमारे रिश्ते के प्रति समर्पित थे।’

विक्रम ने खून से भरी थी डिंपल की मांग


डिंपल चीमा ने अपनी जिंदगी के एक और फिल्मी पल को साझा करते हुए कहा था, ‘एक बार जब मैं उनसे मिली, तो मैंने शादी का मुद्दा इसलिए उठाया, क्योंकि मैं थोड़ा असुरक्षित महसूस कर रही थी।’


‘इसके बाद बिना कुछ कहे उन्होंने अपने बटुए से एक ब्लेड निकाला, अपना अंगूठा काट लिया और अपने खून से मेरी मांग भर दी। वह मेरे जीवन में अब तक का सबसे प्यारा पल है। मैं उन्हें चिढ़ाती थी कि, वो फिल्मी हैं।

अंत नहीं, बल्कि हमेशा का प्यार


विक्रम और डिंपल ने फैसला किया था कि, कारगिल युद्ध से लौटने के बाद दोनों शादी करेंगे। लेकिन 7 जुलाई 1999 को विक्रम बत्रा के सीने में लगी एक बुलेट के चलते वो शहीद हो गए थे। (फोटो में विक्रम की मां)


देश के लिए अपनी जिंदगी कुर्बान करने वाले विक्रम बत्रा के शहीद होने के बाद, डिंपल ने उन यादों के साथ चंडीगढ़ में रहने का फैसला किया, जो दोनों ने उस शहर में चार गौरवशाली वर्षों में एक साथ बनाई थीं।

डिंपल ने विक्रम के बाद क्यों नहीं की शादी?


विक्रम के शहीद होने के बाद अक्सर डिंपल से उनकी शादी को लेकर सवाल किया जाता था कि, आखिर क्यों उन्होंने विक्रम बत्रा की विधवा के रूप में अपनी जिंदगी जीने का फैसला किया?


तब डिंपल ने कहा था, ‘मैं जीवन भर की यादों का वर्णन कैसे करूं, जो सिर्फ चार सालों के जुड़ाव में बनीं? मैं आगे बढ़ सकती थी और फिर वो यादें आती रहेंगी।’


उन्होंने आगे कहा था, ‘पिछले 17 सालों में एक भी दिन ऐसा नहीं आया, जब मुझे लगा हो कि, वो मुझसे अलग हैं। ऐसा लगता है, जैसे वो किसी पोस्टिंग पर दूर हैं और मैं उनसे फिर से मिलने वाली हूं।’

मजबूत महिला का प्रतीक हैं डिंपल चीमा


डिंपल का ये अविश्वसनीय बलिदान हमें हमेशा याद दिलाता है कि, हर सैनिक की सबसे बड़ी ताकत उसकी निडर महिला है, जो उसकी जिंदगी में उसका साथ देती है, जो उन्हें जीतने के लिए प्रेरित करती है।

पति के शहीद होने के बाद पत्नियों ने जॉइन की आर्मी