पिता जेमिनी गणेशन के साथ वायरल हुई रेखा की ये अनदेखी फोटो, पहचान में नहीं आ रहीं एक्ट्रेस

अभिनेत्री रेखा (Rekha) का पिता जेमिनी गणेशन के साथ एक बड़ा ही अनोखा रिश्ता रहा है। सोशल मीडिया पर एक्ट्रेस की पिता के साथ एक फोटो वायरल हो रही है, जिसमें उन्हें पहचान पाना मुश्किल है।  

img

By Shikha Yadav Last Updated:

पिता जेमिनी गणेशन के साथ वायरल हुई रेखा की ये अनदेखी फोटो, पहचान में नहीं आ रहीं एक्ट्रेस

बॉलीवुड इंडस्ट्री एक चकाचौंध भरी इंडस्ट्री है, जिसके अंदर ढेरों राज छुपे हैं। जहां कुछ राज बाहर आ जाते हैं, तो कुछ किस्से ऐसे हैं, जो आज भी मिस्ट्री बने हुए हैं। फिल्म इंडस्ट्री के रिश्तों के बारे में जानने की उत्सुकता अक्सर लोगों में बनी रहती है। कुछ रिश्ते यहां ऐसे हैं, जो बेहद ही अनोखे रहे हैं। ऐसा ही एक रिश्ता रहा है बॉलीवुड की सदाबहार अभिनेत्री रेखा (Rekha) का उनके सुपरस्टार पिता रामास्वामी गणेशन (Ramaswamy Ganesan) के साथ, जो कि ‘जेमिनी गणेशन (Gemini Ganesan)’ के नाम से बेहतर जाने जाते हैं। जेमिनी गणेशन अपने समय में साउथ फिल्म इंडस्ट्री के सुपरस्टार हुआ करते थे। उन दिनों प्रोफेशनल लाइफ के अलावा जेमिनी गणेशन की पर्सनल लाइफ भी लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी रहती थी। जेमिनी गणेशन को ‘किंग ऑफ़ रोमांस’ भी कहा जाता था।

फिल्म इंडस्ट्री में आने से पहले रामास्वामी गणेशन मद्रास के क्रिश्चियन कॉलेज में केमिस्ट्री के लेक्चरर थे। पर धीरे-धीरे उनका मन पढ़ाई-लिखाई से हटने लगा था और उनकी दिलचस्पी अभिनय में बढ़ने लगी थी। वे अपनी नौकरी छोड़कर अभिनय की दुनिया में कुछ बड़ा करना चाहते थे। ऐसे में अपने सपनों को पूरा करने के लिए उन्होंने प्रोडक्शन एग्जीक्यूटिव के तौर पर जेमिनी स्टूडियो के साथ काम करना शुरू कर दिया। रामास्वामी गणेशन जवान और हैंडसम तो थे ही, जिस वजह से उन्हें तमिल की फिल्म ‘मिस मालिनी’ में काम करने का मौका मिल गया। साल 1947 में रिलीज हुई इस फिल्म में वे रेखा की मां और अपने दौर की नंबर वन एक्ट्रेस पुष्पावल्ली के साथ दिखाई दिए थे। (ये भी पढ़ें: मोहम्मद रफी की इन बातों से चिढ़ते थे उनके बच्चे, पत्नी बिलकिस रफी ने खुद किया था खुलासा)

रेखा ने कभी नहीं लगाया पिता का सरनेम

फिल्म में साथ काम करने के दौरान धीरे-धीरे रामास्वामी और पुष्पावल्ली के बीच नजदीकियां बढ़ने लगी थीं। कुछ समय बाद, रामास्वामी ने जेमिनी स्टूडियोज छोड़ दिया था और अपना नाम स्टूडियो के नाम पर रख लिया था। इसके बाद से ही रामास्वामी गणेशन ‘जेमिनी गणेशन’ के नाम से जाने जाने लगे थे। जब जेमिनी की मुलाकात पुष्पावल्ली से हुई थी, तब वे पहले से शादीशुदा थे। साल 1954 में गणेशन और पुष्पावल्ली के अफेयर की खबरों ने खूब सुर्खियां बटोरी थीं, जब पुष्पावल्ली एक बेटी की बिन ब्याही मां बनी थीं। उन्होंने अपनी बेटी का नाम भानुरेखा रखा था। वैसे, अगर देखा जाए तो रेखा का पूरा नाम ‘भानुरेखा गणेशन’ है, लेकिन उन्होंने अपने नाम के साथ कभी सरनेम नहीं लगाया, क्योंकि उनके पिता के लिए वे एक नाजायज औलाद थीं और जेमिनी गणेशन ने कभी रेखा को अपनी बेटी के रूप में स्वीकार नहीं किया था।  

इसी बीच सोशल मीडिया पर रेखा और उनके पिता जेमिनी गणेशन की एक अनदेखी फोटो तेजी से वायरल हो रही है। तस्वीर में रेखा अपने पिता के साथ बैठी हुई दिखाई दे रही हैं और शर्माते हुए पोज दे रही हैं। इस तस्वीर में जेमिनी गणेशन के बगल में साउथ के एक्टर कमल हसन भी बैठे हुए नजर आ रहे हैं। कानों में झुमका और साड़ी के साथ, रेखा को पहचान पाना काफी मुश्किल है। 22 मार्च साल 2005 में जेमिनी गणेशन का निधन हो गया था। रेखा अपने पिता के अंतिम संस्कार में नहीं पहुंची थीं, क्योंकि उस समय वे कुल्लू मनाली में अपनी एक फिल्म की शूटिंग में व्यस्त थीं। (ये भी पढ़ें: राहुल द्रविड़ की लव स्टोरीः जानें डॉक्टर विजेता पेंढारकर पर कैसे आया था क्रिकेटर का दिल)    

पिता के निधन का नहीं मनाया शोक

पिता के गुजर जाने के बाद रेखा ने ‘बॉलीवुड हंगामा’ को इंटरव्यू दिया था जहां उनसे पूछा गया कि, क्या पिता के गुजर जाने का उन्हें दुख है? इस सवाल पर एक्ट्रेस ने कहा था, “मुझे शोक क्यों मनाना चाहिए, जब मेरे अधिकतर हिस्सों में वो ही हैं? मुझे शोक क्यों मनाना चाहिए, जब मैं उनसे मिले जीन, उनसे मिली तालीम और लाइफस्टाइल के लिए शुक्रगुजार हूं? किस बात का शोक??!! मैं खुश हूं कि मेरा उनके साथ कोई बुरा समय नहीं बीता। वह मेरे लिए यादों में जिंदा थे, जो कि असलियत से कहीं ज्यादा खूबसूरत थीं”। वहीं, जेमिनी गणेशन ने भी कभी अपने रिश्तों को दुनिया से छुपाने की कोशिश नहीं की। फिल्म एक्ट्रेस पुष्पावल्ली और सावित्री से उनका रिश्ता जगजाहिर था। अपनी चार्मिंग पर्सनैलिटी और खूबसूरत आंखों से जेमिनी गणेशन बड़ी ही आसानी से महिलाओं का दिल जीत लिया करते थे।  

पुष्पावल्ली को कभी नहीं मिला पत्नी का दर्जा

टीआर अलामेलु जेमिनी गणेशन की पहली पत्नी थीं, जिसके बाद उन्होंने सावित्री से दूसरी शादी की थी। पर हैरानी की बात ये रही कि, उन्होंने पुष्पावल्ली को अपनी पत्नी के रूप में कभी नहीं स्वीकारा। अब सावित्री अपने नाम के साथ ‘गणेशन’ सरनेम का इस्तेमाल करने लगी थीं, जिसके लिए पुष्पावल्ली कब से तरस रही थीं। हालांकि, बाद में जेमिनी गणेशन ने सावित्री को भी अपनी पत्नी मानने से इनकार कर दिया था। उन्होंने एक बयान दिया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि, “मेरी सिर्फ एक ही पत्नी है। सावित्री और पुष्पा मेरी पत्नियां नहीं थीं”। क्या आप जानते हैं अपने सभी रिश्तों से जेमिनी गणेशन के कई बच्चे हैं और सभी बच्चे आज आपस में एक मजबूत बॉन्ड शेयर करते हैं। (ये भी पढ़ें: जब फिल्म ‘रफू चक्कर’ के सेट पर लड़की बने थे ऋषि कपूर, पत्नी नीतू को किस करते हुए वायरल हुई ये फोटो)   

जब रेखा बड़ी हो रही थीं, तब वे अपने पिता का प्यार पाने के लिए तरस रही थीं। किसी भी अन्य बच्चे की तरह रेखा चाहती थीं कि उनके पिता उनकी तरफ ध्यान दें, पर ऐसा कभी हुआ नहीं। पुष्पावल्ली से दो बच्चे 'रेखा' और 'राधा' होने के बावजूद जेमिनी गणेशन ने कभी उन्हें पत्नी का दर्जा नहीं दिया था। हालांकि, ये बात भी सच है कि, गणेशन ने अपनी निजी जिंदगी किसी से छुपाई नहीं थी। उनकी शादी, नाजायज संबंध और बच्चों के बारे में हर कोई जानता था। जेमिनी ने एक बार खुद अपने अफेयर को ‘नाजायज’ करार दिया था। जेमिनी गणेशन की बेटी नारायणी गणेशन पेशे से एक जर्नलिस्ट हैं। नारायणी ने अपने पिता के ऊपर एक किताब ‘Eternal Romantic: My Father Gemini Ganesan’ लिखी है, जिसमें उन्होंने अपने पिता को लेकर रेखा के विचार बताये थे।  

पिता को दिया था लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड

इस किताब के अनुसार, रेखा ने जेमिनी गणेशन के बारे में कहा था, “हालांकि, वे हमारे साथ कभी नहीं रहे, लेकिन हम जहां गए और जो कुछ भी किया, हमेशा उनकी उपस्थिति को महसूस किया। मेरी मां अक्सर उनकी बातें किया करती थीं। वे हमेशा हमें उनकी पसंद-नापसंद के बारे में बताया करती थीं। अब आप इसे प्यार या लगाव, कुछ भी कह सकते हैं। ये आपकी मर्जी है”। बता दें, साल 1991 में रेखा की मां पुष्पावल्ली का निधन हो गया था। एक लंबी बीमारी से जूझने के बाद उन्होंने हमेशा के लिए दुनिया को अलविदा कह दिया था। अफसोस की बात है कि, जेमिनी ने पुष्पावल्ली की आखिरी सांस तक उन्हें अपनी पत्नी नहीं माना था। जेमिनी को पुष्पावल्ली की मौत के 3 साल बाद ‘फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड’ मिला था, जिसे खुद रेखा देने आई थीं। रेखा ने सबके सामने पिता जेमिनी गणेशन को अवार्ड दिया था और उनके पैर छुए थे। तब जेमिनी गणेशन ने कहा था, “इस बात की खुशी है कि ये अवार्ड मुझे ‘बॉम्बे वाली बेटी’ के हाथों से मिला है”।

इस तरह से रेखा को कभी अपने पिता का प्यार तो नसीब नहीं हुआ, लेकिन इसके बावजूद पिता संग उनका रिश्ता बेहद खास रहा। तो आपको हमारी ये स्टोरी कैसी लगी? हमें कमेंट करके बताएं, साथ ही हमारे लिए कोई सुझाव हो तो हमें अवश्य दें।  

(Photo Credit: Instagram)

 

BollywoodShaadis.com © 2021, Red Hot Web Gems (I) Pvt Ltd, All Rights Reserved.