सगाई की अंगूठी से जुड़ा है शादीशुदा जिंदगी का ये राज, आपकी है ऐसी रिंग तो हो जाइए सावधान

सगाई की अंगूठी प्यार की निशानी होती है। इस अंगूठी के साथ शुरू होता हैं एक ऐसा वादा है, जो दो लोग जीवन भर निभाने की कसम खाते हैं। इस पोस्ट में जानिए कि आखिरकार सगाई की अंगूठी आपके वैवाहिक जीवन के बारे में क्या बताती है?

img

By Manali Rastogi Last Updated:

सगाई की अंगूठी से जुड़ा है शादीशुदा जिंदगी का ये राज, आपकी है ऐसी रिंग तो हो जाइए सावधान

सगाई की अंगूठी प्यार की निशानी होती है। इस अंगूठी के साथ एक ऐसा वादा जुड़ा है, जिसे दो लोग जीवन भर निभाने की कसम खाते हैं। वैसे तो भारतीय संस्कृति के हिसाब से शादियों की हर रस्म अपने आप में खासम-खास होती है, लेकिन बेहद कम लोगों इस बात को जानते होंगे कि आपकी सगाई की अंगूठी ही आपके वैवाहिक जीवन के बारे में सबकुछ जानती हैं। अब आप सोच रहे होंगे कि वो कैसे, अंगूठी सोने-हीरे या फिर किसी भी धातु की ही क्यों न बनी हो, लेकिन हर अंगूठी रिश्ते के बारे में कुछ न कुछ जरुर बताती है। मगर उससे पहले ये जानना जरुरी है कि आखिरकार सगाई की अंगूठी में ऐसी क्या बात हैं जिसे हाथ की तीसरी उंगली यानि अनामिका में ही पहनाया जाता हैं। 

फिल्में हम सभी देखते हैं और आपने भी फिल्मों में देखा होगा कि जब सगाई का फंक्शन होता है तो उसमें अंगूठी हाथ की तीसरी उंगली में ही पहनाई जाती है, क्योंकि ये उंगली सीधे दिल तक पहुंचती है। मगर क्या वाकई ऐसा होता है? या फिर हो सकता है कि इसके पीछे कोई और कारण हो। हालांकि, इसको लेकर हर संस्कृति में अपनी-अपनी अलग मान्यताएं हैं। रोम की मान्यता के अनुसार, हाथ की तीसरी उंगली (अनामिका) से होकर एक नस सीधे दिल से जुड़ती है। इसी वजह से अंगूठी पहनने और पहनाने के लिए यही उंगली बेस्ट है, जबकि चीन की मान्यता कुछ और है। चीन का मानना है कि हमारे हाथ की हर उंगली एक संबंध को दर्शाती है और अनामिका पार्टनर के लिए होती है। ठीक ऐसे ही, अंगूठा माता-पिता के लिए, तर्जनी भाई-बहनों के लिए, मध्यमा खुद के लिए और कनिष्ठा बच्चों के लिए होती है। (ये भी पढ़ें: Orange Benefits: संतरे से मिलेगी ग्लोइंग स्किन और लंबे बाल, जानिए इसके कई फायदे)

हीरे की अंगूठी

हीरे की अंगूठी काफी महंगी होती है। जब बात हीरे की होती है तो यह अपनी कीमत, रंग, कट और सफाई के साथ-साथ  कैरट वेट भी बताता है। लेकिन सोचने वाली बात ये है कि इसका आपकी शादी से क्या लेना-देना है। हीरा पारदर्शी होता है, यानि इसके आर-पार आप हर चीज साफ देख सकते हैं। हीरे की सबसे खास बात ये है कि ये अपनी क्लैरिटी और पारदर्शिता के लिए जाना जाता है। किसी शादी में सफेद रंग शुद्धता का प्रतीक माना जाता है। हीरे के रंग की तरह शादी भी शुद्ध, पारदर्शी, दोषपूर्ण और बिना किसी दिखावे के होनी चाहिए। इससे रिश्ता काफी मजबूत होता है। दरअसल, जब आप एक रिश्ते को थोड़ा स्पेस देंगे और अपने पार्टनर के साथ एक पारदर्शी रिश्ता रखेंगे तो वो रिश्ता आपको आगे तक लेकर जाएगा। शादी के मामले में पवित्रता यह है कि आप बिना किसी अपेक्षा के एक-दूसरे के प्रति कितने वफादार हैं और हीरे की अंगूठी उसी वफादारी का सबूत है। 

जब हीरे की अंगूठी बनायी जाती है, तब इस बात का ख़ास ख्याल रखा जाता है कि इसकी कटाई-बनाई सही तरीके से की जाएं। हीरे पर जितनी सफाई से कट लगेगा, उसकी अंगूठी उतनी सुंदर बनेगी। अब आप सोच रहे होंगे कि इसमें सुंदरता का पैमाना क्या है? दरअसल जब किसी हीरे की अंगूठी को आप धूप के सामने रखेंगे तो उस पर पड़ने वाली किरणें काफी सधी हुई होती हैं, जोकि संतुलन को दर्शाती हैं। ठीक ऐसा ही संतुलन पति-पत्नी के बीच भी होना चाहिए। ऐसा होने पर ही शादीशुदा जिंदगी बेहतरीन होती है। वहीं, हीरे की स्पष्टता यह निर्धारित करती है कि यह कितना साफ़ है। आप बिना माइक्रोस्कोप के इसकी कमियों को नहीं देख सकते। ठीक ऐसा ही पति-पत्नी के रिश्ते में होता है। आप दोनों एक हो ऐसे में एक-दूसरे की अच्छाई-बुराई को अपनाने की कला भी होनी चाहिए। (ये भी पढ़ें: कॉमेडी किंग कपिल शर्मा के घर आया नन्हा मेहमान, लगा बधाइयों का तांता)

सोने की अंगूठी

 फोटो क्रेडिट- Faizan Patel Photography

आजकल वर-वधुओं को सगाई के लिए सोने की अंगूठियां ही पसंद आती हैं। सोने की अंगूठी ज्यादातर अपनी सादगी और अनुग्रह के लिए पसंद की जाती है। सोने की अंगूठी ये दर्शाती है कि आप अपनी मान्यताओं पर कितना विश्वास करते हैं और उनका कितना पालन करते हैं। सोने की अंगूठी इस बात का भी प्रमाण है कि आप शादी की मान्यताओं के प्रति कितने जागरूक हैं। सोने की अंगूठी काफी पारंपरिक होती है, जिससे ये पता चलता है कि आप अपनी संस्कृति से कितना जुड़े हुए हैं।

खानदानी अंगूठी

पारिवारिक अंगूठी विरासत और मूल्यों के महत्व का प्रतीक होती है। पारिवारिक अंगूठी सोने या हीरे में से किसी की भी हो सकती है। दरअसल कई बार वर-वधू चाहते हैं कि वो अपने परिवार की खानदानी अंगूठी से ही सामने वाले को शादी के लिए प्रोपोज करें। इस क्रम में वर या वधू ऐसी अंगूठी सामने वाले को पहनाते हैं जो उनके परिवार में पीढ़ियों से चलती चली आ रही होती हैं। आमतौर पर वर की तरफ से वधू को यह अंगूठी पहनाई जाती है, जोकि यह दर्शाता है कि दुल्हन ससुराल को अपना मानती है और उनके बीच का संबंध एक विवाह प्रमाण पत्र से कहीं अधिक गहरा होगा। (ये भी पढ़ें: Wedding Tips: शादी में बाकी हैं कुछ ही दिन, तो इन घरेलू फेस पैक से पाएं ग्लोइंग स्किन)

...तो ये थीं सगाई की अंगूठी को लेकर कुछ ख़ास बातें। उम्मीद है कि आप अपनी सगाई के लिए अब सोच-समझकर ही अंगूठी खरीदेंगे। हालांकि, आपका रिश्ता किसी चीज का मोहताज नहीं है क्योंकि रिश्ता दो लोगों से चलता है और इस रिश्ते के लिए सारे वादे आपको पूरे करने हैं। ऐसे में उन्हें महत्व दें। एक-दूसरे के प्रति वफादार रहें, एक-दूसरे का सम्मान करें। आपको हमारी ये स्टोरी कैसी लगी हमें कमेंट करके बताना न भूलें,  हमारे लिए कोई सलाह है तो जरूर दें।

latest
latest

Loading...

BollywoodShaadis.com © 2020, Red Hot Web Gems (I) Pvt Ltd, All Rights Reserved.