ये हैं मुकेश अंबानी के गुरु रमेश भाई ओझा, हर बड़े काम से पहले इनकी सलाह लेता है अंबानी परिवार

भारत के सबसे अमीर आदमी मुकेश अंबानी अपने हर बड़े काम से पहले अपने गुरु की सलाह लेते हैं। उनके गुरु रमेश भाई ओझा हैं, जो एक प्रसिद्ध कथावाचक भी हैं। आइए आपको इनके बारे में बताते हैं।

img

By Pooja Shripal Last Updated:

ये हैं मुकेश अंबानी के गुरु रमेश भाई ओझा, हर बड़े काम से पहले इनकी सलाह लेता है अंबानी परिवार

दुनिया के सबसे बड़े उद्योगपतियों और अमीर आदमियों की लिस्ट मे एक नाम भारत के बिजनेसमैन मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) का भी है। मुकेश अंबानी का पिछले कई सालों से बिजनेस के क्षेत्र में दबदबा रहा है। अंबानी परिवार न केवल अपने व्यापार, बल्कि धार्मिक आयोजनों के लिए भी जाना जाता है। कहते हैं जीवन में सफलता के लिए एक गुरु का होना बहुत जरूरी होता है। ऐसे ही अंबानी परिवार के भी एक गुरु हैं, रमेश भाई ओझा। अंबानी परिवार अपना हर छोटा-बड़ा फैसला इन्हीं के कहने से लेता है। 

RAMESHBHAI OZA

आइए आपको इनके बारे में विस्तार से बताते हैं।

ये हैं अंबानी परिवार के गुरु रमेश भाई ओझा

RAMESHBHAI OZA

अंबानी परिवार के गुरु रमेश भाई ओझा हैं, जो एक जाने-माने आध्यात्मिक गुरु हैं। ये गुजरात के पोरबंदर में एक आश्रम चलाते हैं, जिसका नाम 'संदीपनी वि‍द्यानि‍केतन आश्रम' है। रमेश भाई ओझा अंबानी परिवार के साथ तब से हैं, जब धीरूभाई अंबानी अपनी सफलता के शिखर पर थे। अंबानी परिवार के लिए इनकी अहमियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि, उनके हर छोटे-बड़े फैसले में रमेश भाई ओझा की सलाह शामिल होती है। बताया जाता है कि, मुकेश अंबानी अपने बिजनेस में कुछ भी नया करने से पहले अपने गुरु की सलाह लेते हैं। 

मुकेश-अनिल के संघर्ष को इनके गुरु ने ही कराया था खत्म

RAMESHBHAI OZA

रिपोर्ट्स के मुताबिक, जब मुकेश अंबानी और अनिल अंबानी के बीच कारोबार को लेकर संघर्ष चल रहा था, तब इनके गुरु ने ही दोनों भाइयों के बीच सुलह कराई थी। मुकेश और अनिल की मां कोकिलाबेन ने उन्हें इस मसले का हल निकालने और भाइयों के बीच हुए इस संघर्ष को खत्म करने के लिए बुलाया था, जिसके बाद वो आए भी और अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए दोनों भाइयों में सुलह भी कराई थी। 

धीरूभाई के समय से अंबानी परिवार के साथ हैं आध्यात्मिक गुरु

(ये भी पढ़ें- राधिका मर्चेंट ने 'अरंगेत्रम' में दी धमाकेदार परफॉर्मेंस, तालियों की गड़गड़ाहट से गूंजा थिएटर)

आध्यात्मिक गुरु रमेश भाई ओझा, धीरूभाई अंबानी के समय से ही अंबानी परिवार के संरक्षक बने हुए हैं। ऐसा कहा जाता है कि, 'रिलायंस' के संस्थापक धीरुभाई अंबानी की पत्नी कोकिलाबेन अक्सर उनके वीडियोज देखा करती थीं। उनसे प्रभावित होकर साल 1997 में उन्होंने अपने घर 'राम कथा' कराने के लिए रमेश भाई ओझा को आमंत्रित किया था। 'रामायण पाठ' का ये कार्यक्रम एक सप्ताह तक चला था। इस दौरान रमेश भाई ओझा और अंबानी परिवार के अच्छे रिश्ते बन गए थे और तब से लेकर अब तक रमेश भाई ओझा अंबानी परिवार के गुरु के रूप में उनके साथ हैं। 

RAMESHBHAI OZA

आध्यात्मिक गुरु के भाई गौतम ने 'मुंबई मिरर' को बताया था कि, ''उस दौर में अंबानी परिवार के आवास में ही रमेश भाई ओझा की 'राम कथा' का आयोजन किया गया था। एक सप्ताह तक चले इस कार्यक्रम के दौरान अंबानी परिवार के साथ ओझा के अच्छे संबंध बन गए थे। पूरे दिन राम कथा चलती थी और शाम को रमेश भाई के साथ चर्चा होती थी।' तब से शुरू हुआ ये सिलसिला अब गुरु-शिष्य के बीच के मजबूत रिश्ते में बदल गया है और अब वो अंबानी परिवार के हर कार्यक्रम में परिवार के एक सदस्य की तरह ही शामिल होते हैं। 

RAMESHBHAI OZA

(ये भी पढ़ें- राधिका मर्चेंट की 'अरंगेत्रम' में श्लोका मेहता ने पहनी बनारसी साड़ी, खूबसूरत लुक ने जीता का दिल)

अंबानी फैमिली रमेश भाई ओझा का कितना सम्मान करती है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि, जब जामनगर में रिलायंस ने अपनी पहली रिफाइनरी स्थापित की थी, तो इसका उद्घाटन रमेश भाई ओझा ने ही किया था। इस दौरान उन्होंने रिलायंस के कर्मचारियों को संबोधित करते हुए उन्हें कर्मय़ोग का महत्व भी समझाया था। 

RAMESHBHAI OZA

जो नहीं जानते उन्हें बता दें कि, रमेश भाई ओझा को आध्यात्मिक गुरु के तौर पर जाना जाता है, जिन्होंने धर्म के सिद्धांतों को व्यवहारिकता के साथ जोड़ने का काम किया है। न केवल अंबानी परिवार, बल्कि देश के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गुजरात के तमाम बड़े नेता उनके आश्रम में जा चुके हैं। जानकारी के अनुसार, जब देश की विदेश मंत्री रहते हुए सुषमा स्वराज ने 'भागवत गीता' को राष्ट्रीय धार्मिक ग्रंथ घोषित करने पर जोर दिया था, तब रमेश भाई ओझा ही उनके मार्गदर्शक थे। 

RAMESHBHAI OZA

रमेश भाई ओझा का जन्म गुजरात के एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनकी दादी भागवत गीता को बहुत मानती थीं और वो चाहती थीं कि, उनके घर में रोज भागवत गीता का पाठ हो। दादी की इसी इच्छा को पूरा करने के लिए वो रोज गीता का पाठ करने लगे और उनकी रुचि आध्यात्म के प्रति बढ़ गई और वो आध्यात्मिक गुरु बन गए।

RAMESHBHAI OZA

(ये भी पढ़ें- कोकिलाबेन अंबानी ने होने वाली 'बहू' राधिका मर्चेंट की 'अरंगेत्रम' में पहनी गुलाबी सिल्क साड़ी)

अंबानी परिवार के गुरु के बारे में ये जानकारी आपको कैसी लगी? कमेंट करके हमें जरूर बताएं।

(Picture Credit: Instagram)
BollywoodShaadis.com © 2022, Red Hot Web Gems (I) Pvt Ltd, All Rights Reserved.